बॉडी बिल्डिंग में इन बातों का रखें ध्यान

यदि आप चाहें तो क्या नहीं कर सकते फिर बॉडी बिल्‍डिंग क्या चीज है. बॉडी बिल्डिंग अथवा मसल्स बिल्डिंग में आप मांसपेशियों को मजबूत बनाते हैं. यह प्रक्रिया एक-दो हफ्ते में रिजल्ट देने वाली चीज नहीं है. इसके लिए लगातार अभ्यास करते रहना जरुरी है.

आज आप किसी भी स्टेज पर क्यों न हों, हर समस्या का हल निकल ही आता है. थोड़ी मेहनत, थोड़ा ज्ञान और अच्छा खाना ही इस पूरी प्रक्रिया का हिस्सा है. हो सकता है आपने पहले भी इस बारे में कुछ ज्ञान अर्जित किया हो लेकिन हम आपको चुनिंदा टिप्स बता रहे हैं जिनको अपनी बॉडी बिल्डिंग की लाइफस्टाइल में शामिल करें और बेहतर नतीजा पाएं.

कैलोरी बढ़ाएं

आप किसी भी तरह की एक्सरसाइज़ करने जा रहे है तो सबसे पहले अपनी कैलोरी की मात्रा बढ़ाएं. क्योंकि आप जब रूटीन से हटकर अधिक मेहनत करेंगे तो अधिक कैलोरी की जरुरत पड़ेगी. अधिक कैलोरी लेने से मासपेशियों में नव-निर्मित सेल्स को भी पोषण मिलेगा और वह वृद्धि करेंगे.

लेकिन हां इस बात का जरुर ध्यान रखें कि आपको कितनी कैलोरी चाहिए. हर व्यक्ति को उसके शरीर के हिसाब से ही कैलोरी की जरुरत पड़ती है. जरुरत से ज्यादा ज्यादा कैलोरी ना खाएं और किसी अच्छे स्वास्थ्य सलाहकार से बात करके ही कैलोरी की पूरी जानकारी लें.

एक्सरसाइज़ का समय

कुछ लोग मानते हैं कि शाम को एक्सरसाइज़ करना ज्यादा अच्छा होता है जबकि कुछ लोग सुबह का समय चुनते हैं. यदि एक्सपर्ट्स की मानें तो सुबह किये जाने वाले व्यायाम का हमारे शरीर पर अधिक प्रभाव होता है. जब आप सुबह खली पेट कसरत करते हैं तो यह इससे मांसपेशियां पहले की तुलना में अधिक मजबूत हो जाती हैं.

पोषक तत्व

जब आप ज्यादा भोजन ले रहे हैं तो जाहिर सी बात है कि आपको उसे पचाना भी होगा. इसलिए आप अपने भोजन में डाइजेस्टिव एंजाइम भी शामिल करें. इसका लाभ यह होगा कि आप जो भी खाना खा रहे हैं वह भोजन के बाद हजम होना शुरु हो जायेगा.

पानी की मात्रा

ज्यादा व्यायाम करने से शरीर में डिहाइड्रेशन हो सकता है जिससे पानी की कमी हो जाती है. इसलिए जरुरी है कि शरीर में पानी की कमी नहीं होनी चाहिए. इस समस्या से निपटने का केवल एक ही इलाज है कि आप दिन में कम से कम 10-12 गिलास पानी पियें. नारियल पानी और छाछ भी फायदेमेंद हैं.

प्रोटीन

अपने खाने में प्रोटीन की मात्रा बढ़ा दें. पूरी तरह डाइट प्रोटीन वाली भी नहीं होनी चाहिए और न ही प्रोटीन रहित होनी चाहिए. उबले अंडे, चिकन, मछली, अंकुरित खाद्य पदार्थ, सोया और दालें आदि प्रोटीन का अच्छा स्रोत हैं. बाज़ार में बिकने वाले प्रोटीन पाउडर से बेहतर होगा यदि आप इन खाद्य पदार्थों को अपने भोजन में शामिल करें.

फैट

कहा जाता है कि बॉडी बिल्डिंग में 30% एक्सरसाइज़ और 70% डाइट काम करती है. अच्छी डाइट से अच्छी सेहत बन सकती है. फैट भी आपके लिए बहुत फायदेमंद हैं. आप ओमेगा-3 कैप्सूल ले सकते हैं. साथ ही आप बादाम और नट्स भी ले सकते हैं.

कार्डियो एक्सरसाइज़

थोड़ा-बहुत कार्डियो करना भी जरुरी है. यदि वजन अधिक है तो कार्डियो व्यायाम करना अच्छा रहता है. कार्डियो व्यायाम से मांसपेशियां मजबूत होती हैं तथा उनमें ताकत आती है.

सबसे अहम बात, यह एक लंबी प्रक्रिया यह काफी समत तक लगातार प्रशिक्षण लेने के बाद ही आपको फर्क नज़र आएगा. यदि आपने अभी अभी शुरू कि है बॉडीबिल्डिंग तो सबसे पहले बुनियादी बातों को अच्छी तरह से सीखें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *